शिक्षक दिवस भारत में प्रतिवर्ष 5 सितंबर को डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की स्मृति में मनाया जाता है। 5 सितंबर को ही डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस भी है। उनका शिक्षा के क्षेत्र में एक अहम योगदान रहा है। इसलिए सभी शिक्षकों के सम्मान में प्रतिवर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

teachers day

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको शिक्षक दिवस और डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है?

हमारे जीवन में शिक्षा का एक अलग ही महत्व है और शिक्षा के माध्यम से ही हम अपने भविष्य को उज्जवल बनाते हैं। शिक्षा हर मनुष्य के लिए जरूरी होती है। हम शिक्षक के माध्यम से ही शिक्षा ग्रहण कर पाते हैं इसलिए शिक्षा के क्षेत्र में एक शिक्षक की भी अहम भूमिका होती है।

sarvepalli radhakrishnan

अलग-अलग देशों में शिक्षक दिवस अलग अलग दिन मनाया जाता है लेकिन भारत में शिक्षक दिवस प्रतिवर्ष 5 सितंबर को डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के दिन मनाया जाता है। राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को एक तेलुगु ब्राह्मण परिवार में तिरुत्तानी, मद्रास प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश इंडिया में हुआ था। उनके पिता का नाम सर्वपल्ली वीरस्वामी था और उनकी माँ का नाम सीताम्मा था। राधाकृष्णन एक महान विद्वान और एक महान शिक्षक थे उन्होंने अपने जीवन के 40 वर्ष शिक्षा के क्षेत्र में बिताए थे। इसलिए प्रतिवर्ष 5 सितंबर को उनकी स्मृति में शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

शिक्षक दिवस - Teachers Day

शिक्षक दिवस, sarvepalli radhakrishnan biography, sarvepalli radhakrishnan essay, sarvepalli radhakrishnan short biography.


राधाकृष्णन जी का मानना था कि शिक्षक का दिमाग सबसे बेहतर दिमाग होता है। राधाकृष्णन बहुत अच्छे शिक्षक और दार्शनिक थे। एक बार कुछ विद्यार्थी और दोस्तों ने उनसे कहा कि, वह उनके जन्मदिन को सेलिब्रेट करना चाहते हैं।
तब उन्होंने कहा था कि,

"मेरा जन्मदिन अलग से मनाने के बजाए अगर मेरा जन्मदिन टीचर्स डे के रूप में मनाया जाए तो मुझे गर्व महसूस होगा।"

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को 1954 में भारत रत्न पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

शिक्षक दिवस कविताएँ, संदेश और शायरी

"जिसे देता ये जहां सम्मान, जो करते है देशों का निर्माण,
जो बनाते है इंसान को इंसान, जिसे करते हैं सभी प्रणाम,
जिसकी छाया में मिलता है ज्ञान,
जो कराये सही दिशा की पहचान,
वो है मेरे गुरु मेरे गुरु को मेरा शत शत प्रणाम"
शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

गुरु का महत्व कभी होगा न कम,
भले करले कितनी भी उन्नति हम,
वैसे तो है इंटरनेट पर हर प्रकार का ज्ञान,
पर अच्छे बुरे की नहीं उसे पहचान,
नहीं है शब्द कैसे करूँ धन्यवाद,
बस चाहिए हर पल आप सबका आशीर्वाद,
हूं जहां आज मैं उसमें है आपका बड़ा योगदान, 
आप सबका जिन्होंने दिया मुझे इतना ज्ञान,
आपने बनाया है मुझे इस योग्य,
कि प्राप्त करूं मैं अपना लक्ष्य,
दिया है हर समय आपने सहारा,
जब भी लगा मुझे मैं हारा,
करता हूं दिल से आप सब का सम्मान,
आप सबको है मेरा शत-शत प्रणाम।
Happy Teachers Day

माताएँ देती हमें नव जीवन और पिता हमारी रक्षा करते हैं,
लेकिन सच्ची मानवता की भावना जीवन में शिक्षक ही भरते हैं,
हर परिस्थिति में खुश रहना शिक्षक हमें सिखाते हैं,
हर चुनौती को स्वीकारना शिक्षक हमें बताते हैं,
विद्या का धन देकर शिक्षक जीवन सार्थक करते हैं,
शिक्षक ईश्वर से बढ़कर हैं ये कबीर बतलाते हैं,
जीवन में कुछ करना है तो शिक्षक का सम्मान करें,
श्रद्धा पूर्वक शीश झुकाकर प्रतिदिन उन्हें प्रणाम करें।
शिक्षक दिवस कविता

कड़ी धूप में जो दे वृक्ष सी छाया,
ऐसी हैं इनके ज्ञान की माया,
नहीं होता कोई रक्त सम्बन्ध,
फिर भी जीवन का है अनमोल बंधन।
हैप्पी शिक्षक दिवस!

बिन गुरु नहीं होता जीवन साकार,
सिर पर होता जब गुरु का हाथ,
तभी बनता जीवन का सही आकार,
गुरु ही हैं सफल जीवन का आधार।
शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाई!

शिक्षक के बिन ये दुनिया क्या,
कुछ भी नहीं बस अंधकार यहाँ,
शत-शत नमन उन शिक्षकों को,
जिनके कारण रोशन सारा जहाँ।
Teachers day poem in Hindi

सत्य का पाठ जो पढ़ाये,
वही सच्चा गुरू कहलाये,
जो ज्ञान से जीवन को आसन बनाये,
वही सच्चा गुरू कहलाये।
शिक्षक दिवस शायरी

जीवन का पथ जहाँ से शुरू होता है,
वो रहा दिखाने वाला गुरू ही होता है,
जिसके मन में गुरू के लिए सम्मान होता है,
उसके चरणों में एक दिन पूरा जहान होता हैं।
हैप्पी शिक्षक दिवस

जो बनाये हमें इंसान,
और दे सही गलत की पहचान,
देश के उन निर्माताओं को,
हम करते हैं शत-शत प्रणाम।
Teacher ke liye Shayari

आप सभी को शिक्षक दिवस हार्दिक शुभकामनाएं!

आशा है कि इस पोस्ट में दी गई जानकारी आपको पसंद आयेगी। आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी कैसी लगी हमें comment करके जरूर बताएं।