भारत की जलवायु मानसून प्रकार की है जिसमें मौसम तत्वों के मेल के कारण अनेक क्षेत्रीय विभिन्नताएं पायी जाती है। ये विभिन्नताएं भारत की जलवायु के उप-प्रकारों में भी देखी जा सकती है। इन्हीं विभिन्नताओं के आधार पर ही जलवायु प्रदेश पहचाने जा सकते हैं।

India leading climate region in hindi

एक जलवायु प्रदेश में जलवायवीय दशाओं की भी समरूपता होती है, जो जलवायु के कारकों के संयुक्त प्रभाव द्वारा उत्पन्न होती है। तापमान और वर्षा जलवायु के दो महत्वपूर्ण तत्व है। आज इस पोस्ट में हम आपको भारत के सभी जलवायु प्रदेशों के बारे में विस्तार से बताएंगे।

भारत के प्रमुख जलवायु प्रदेश (India's Leading Climate Region)

जलवायु प्रदेशों का वर्गीकरण कोपेन की पद्धति के माध्यम से किया गया। कोपेन ने अपने जलवायु वर्गीकरण का आधार तापमान व वर्षा को मानकर जलवायु प्रदेशों के पाँच प्रकार माने है। चलिए इन सभी के बारे में विस्तार से जानते हैं-

1.उष्णकटिबंधीय जलवायु प्रदेश- ऐसे प्रदेश जहां पर पूरे साल में औसत मासिक तापमान 18 डिग्री सेल्सियस से अधिक रहता है वहां के प्रदेशों को उष्णकटिबंधीय जलवायु प्रदेश कहा जाता हैं।

2.शुष्क जलवायु प्रदेश- जहां पर तापमान की तुलना में वर्षण (वर्षा) बहुत कम जाती है, जिसके कारण शुष्कता अधिक होती है। ऐसे सभी प्रदेश शुष्क जलवायु प्रदेशों के अन्तर्गत आते हैं।

3.गर्म जलवायु प्रदेश- गर्म जलवायु प्रदेशों के अन्तर्गत वे प्रदेश आते हैं जहां पर सबसे ठण्डे महीने का औसत तापमान 18 डिग्री सेल्सियस और -3 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है।

4.हिम जलवायु प्रदेश- जहां पर सबसे गर्म महीने का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से अधिक तथा सबसे ठण्डे महीने का औसत तापमान -3 डिग्री सेल्सियस से कम रहता है। ऐसे प्रदेश हिम जलवायु प्रदेशों के अन्तर्गत आते हैं।

5.बर्फीली जलवायु प्रदेश- ऐसे प्रदेश जहां पर सबसे गर्म महीने का तापमान 19 डिग्री सेल्सियस से कम रहता है वे प्रदेश बर्फीली जलवायु प्रदेश कहलाते हैं।
कोपेन ने जलवायु प्रकारों को व्यक्त करने के लिए वर्ण संकेतों का भी प्रयोग किया है।कोपेन ने अग्रेंजी के बड़े वर्णों में S को अर्ध्द मरूस्थल के लिए तथा W को मरूस्थल के लिए प्रयोग किया है।

कोपेन की योजना के अनुसार भारत के आठ जलवायु प्रदेश माने जाते हैं। जिनके प्रकार निम्नलिखित है-


India leading climate region


 कोपेन योजना के अनुसार भारत के जलवायु प्रदेश

 जलवायु के प्रकार
 क्षेत्र
 Amw
 लघु शुष्क ऋतु वाला मानसून
गोवा के दक्षिण में भारत का पश्चिमी तट
 As
शुष्क ग्रीष्म ऋतु वाला मानसून
तमिलनाडु का कोरोमंडल तट 
 Aw
 उष्णकटिबंधीय सवाना
कर्क वृत्त के दक्षिण में प्रायद्वीपीय पठार का अधिकतर भाग 
 BShw
 अर्ध शुष्क स्टेपी जलवायु
पश्चिमी गुजरात, पश्चिमी राजस्थान व पंजाब के कुछ भाग 
 BWhw
 गर्म मरूस्थल
राजस्थान का सबसे पश्चिमी भाग 
 Cwg
 शुष्क शीत ऋतु वाला मानसून
गंगा का मैदान, उत्तर पूर्वी भारत के अधिकतर भाग 
 Dfc
 लघु ग्रीष्म तथा ठंडी आर्द्र शीत ऋतु
अरूणाचल प्रदेश वाला जलवायु प्रदेश 
 E
 ध्रुवीय प्रकार
जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई तो इसे अपने social media पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो आप comment के माध्यम से पूछ सकते हैं।